मुफ्त बाइबल टीका 
टीकाएं पी डी एफ ग्रन्थाकार में हैं और वे नवीनतम अडोब रीडर-'सी' के द्वारा पढ़ी जा सकती हैं
Deuteronomy Bible Commentary -- Hindi Translation
(Deuteronomy -- Hindi)

Gospel of John -- Hindi translation
(Gospel of John and I, II & III John -- Hindi)

 
(Romans -- Hindi)

न्यू टेस्टामेंट सर्वेख्रण
(New Testament Survey -- Hindi)

बाइबिल व्याख्या पाठ्यपुस्तक
(Bible Interpretation Seminar Textbook -- Hindi)

यह मुफ्त बाइबल अध्ययन वैबसाइट बाइबल की अद्वितिय प्रेरणा के प्रति समर्पित है। यह विद्गवास (उद्धार) और व्यवहारिकता (मसीही जीवन) का एकमात्र स्त्रोत है। बाइबल की व्याखया की कुजीं वास्तविक लेखक के उद्‌देद्गय को समझना है, निम्नलिखित तरीकों के द्वारा : (१) द्यौली का चुनाव, (२) लेखन संदर्भ, (३) व्याकरण का चुनाव, (४) द्याब्दों का चुनाव, (५) लेखक और लेख की ऐतिहासिक पृच्च्ठभूमि, और (६) समानान्तर वाक्यांद्गा (प्रेरित पुस्तक का उत्तम व्याखयाकार प्रेरित पुस्तक है। बाइबल सत्य का पुस्तकालय है।)
लेखक व्याखयान (बाइबलिय व्याखयान) में अकादमिक तौर पर द्गिाक्षित है और कोद्गिाद्गा करता है कि : www.freebiblecommentary.org
(१) प्रोत्साहन देना कि आप स्वयं बाइबल पढ़ें (आप, बाइबल और पवित्र आत्मा प्राथमिक हैं)।
(२) आपकी समझ को परखने में सहायता करना और साथ ही व्याखया के अन्य विकल्प प्रदान करना।
(३) जब वास्तविक (केवल एक ही अर्थ) उद्‌देद्गय प्राप्त हो जाए तो उसे अपनी संस्कृति और जीवन में लागु करना। प्रयोग कई हो सकते हैं, परन्तु लेखक का केवल एक ही उद्‌देद्गय होता है।
(४) व्याखया के सिद्धान्त आपको यह नहीं बता सकते कि मूल पाठ का वास्तविक अर्थ क्या है, परन्तु यह आपकी सहायता करता है कि, इसका अर्थ क्या नहीं हो सकता।
(५) व्याखया अध्ययन एक व्यक्ति के बाइबल के अध्ययन को परखने के लिए नियम है। व्याखयान का प्रत्येक भाग महत्वपूर्ण है, परन्तु अधिकतर आधुनिक बाइबल के व्याखयाकार केवल यही प्रद्गन पूछते हैं, ''इस मूल पाठ का मेरे लिए क्या अर्थ है?'' जबकी उत्तम प्रद्गन है कि, ''वास्तविक लेखक (एकमात्र प्रेरणा प्राप्त व्यक्ति) अपने समय के लोगों से क्या कह रहा था?'' और ''मेरे समय में यह सत्य कैसे व्यवहार में लाया जा सकता है?''
मैं आद्गाा करता हूँ कि मेरी बाइबल व्याखयान गौच्च्िठ आपके लिए आद्गाीच्च का कारण हुई और आयत आनुसार टीकाएं आपको परमेद्गवर के करीब ले गई होंगी।
Dr. Bob Utley
Professor or Hermeneutics (Retired)
 
Copyright © 2014 Bible Lessons International, P.O. Box 1289, Marshall, TX 75671, USA